नीति-अर्थ-राजनीति (सार्वजनिक नीतियों का गाँधीवादी दृष्टिकोण) (NeetiArth Rajneeti Sarvjanik Nitiyo Ka Gandhivadi Drishticon)

275 234
Language Hindi
Binding Paperback
Pages 126
ISBN-10 9390889847
ISBN-13 978-9390889846
Book Weight 154 gm
Book Dimensions 13.97 x 0.69 x 21.59 cm
Publishing Year 2021
Amazon Buy Link
Kindle (EBook) Buy Link
Categories: , ,
Author: Dr. Tanima DuttaDr. Vijay Srivastava

धी के अर्थशास्त्र की प्रासंगिकता के ऊपर एक बहुत अच्छा शोध बी एन घोष ने अपनी पुस्तक ‘गांधियन पॉलीटिकल इकोनामी’ में किया है, जहां उन्होंने मलेशिया की अर्थव्यवस्था के संदर्भ में गांधी की असमानताओं की दृष्टि की गणितीय आधार पर परिकल्पना बनाकर परीक्षण किया है यह सोच अपने आप में एक नवीनता लिए हुए हैं गांधी के अर्थशास्त्र पर लिखने पढ़ने और चिंतन करने वाले नए शोधार्थियों को इस पुस्तक की कार्यप्रणाली और शोध प्रणाली को अपनाना चाहिए गांधी के आर्थिक दृष्टिकोण को हमें और नवीनता से समझना होगा यह बात भी हमें समझनी होगी कि गांधी हो सकता है कई जगह यंत्रों को लेकर, मशीनीकरण को लेकर और समाजवाद को लेकर कुछ गंभीर वैचारिक भूल कर सकते हैं, किंतु इन वैचारिक भूलों पर भी एक वैचारिक विमर्श करना आर्थिक नीति निर्माताओं का कर्तव्य है जिस प्रकार आर्थिक नीति निर्माताओं द्वारा गांधी के आर्थिक दर्शन को छद्मम रूप में अपनाया गया चाहे वह लोकतांत्रिक तौर पर विकेंद्रीकरण हो, या चाहे वह पंचायती राज हो, चाहे वो ग्रामस्वराज हो, और चाहे वह स्वदेशी हो, गांधी की अधूरी आर्थिक अवधारणाओं को अपनाने से इस देश का ही नुकसान है क्योंकि हमें यह समझना होगा कि गांधी का हर एक आर्थिक दर्शन का आधार एक एकमुखी ना होकर बहुआयामी है और यह बहुआयाम,गांधी के रचनात्मक कार्यक्रमों और उनकी नवभारत के निर्माण की अहिंसक परिकल्पना से भी जुड़ा हुआ है

Language

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “नीति-अर्थ-राजनीति (सार्वजनिक नीतियों का गाँधीवादी दृष्टिकोण) (NeetiArth Rajneeti Sarvjanik Nitiyo Ka Gandhivadi Drishticon)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *