Antim Pagdandi Tak (Samvednaon Ka Safar) अंतिम पगडंडी तक (संवेदनाओं का सफर)

250 213
Language Hindi
Binding Paperback
Pages 126
ISBN-10 8196709102
ISBN-13 978-8196709105
Book Dimensions 5.5" x 8.5"
Amazon Buy Link
Kindle (EBook) Buy Link
Category:
Author: Vibhawari Sinha

मेरी कविताएं तुकान्त भी हैं और अतुकान्त भी लेकिन मन के भाव निर्बाध हैं, लहरों के बंधन से दूर ये हर दिल के तट को छूते हैं। हर कोई अपनी व्यस्त ज़िन्दगी के सफर में पल भर के लिए ही सही अपने मन की राहों पर रुकता ही है, सुस्ताता है, अपने अहसासों को जरूर जीता है, कई अनकही सी बातें दिल में रह जाती हैं और उन अहसासों, बातों तथा अनुभूतियों के साथ वह एक और ज़िन्दगी को तलाशता है जहां उनके ख़यालों को नया आयाम मिल सके, एक ठहराव मिल सके…। ये कविताएं हर पाठक के दिल तक पहुंचेगी, उनके दिल को जरूर छूएगी ऐसा मेरा विश्वास है।

Language

Binding

Paperback

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Antim Pagdandi Tak (Samvednaon Ka Safar) अंतिम पगडंडी तक (संवेदनाओं का सफर)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *