Priy Tum Chalte Rahna (प्रिय तुम चलते रहना)

130 111
Language Hindi
Binding Paperback
Pages 67
ISBN-10 9394369961
ISBN-13 978-9394369962
Book Dimensions 5.5" x 8.5"
Edition 1st
Publishing Year 2024
Amazon Buy Link
Kindle (EBook) Buy Link
Author: Sultan Ahmed Ansari

वास्तव में यह काव्य प्रतिभा को प्रदर्शित करने के बजाए अपनी भावनाओं को व्यक्त करने का प्रयास मात्र है । जीवन में आए उतार चढ़ाव और पड़ावों में मिले लोग इसके प्रेरणास्रोत रहे । मुझे याद नहीं है कि कोई भी कविता जानबूझकर लिखी गई हो । जब भी, जहां भी विचार आया उसे लिख लिया गया, क्रमबद्ध कर लिया गया । इस तरह से अधिकांश कविताएँ अस्तित्व में आ गयीं । मित्र मंडली में कभी कभार कविताओं को सुनाने पर सकारात्मक प्रतिक्रिया प्राप्त हुई । कुछ मित्रों ने सलाह दी तो इन्हें प्रकाशित कराने का विचार आया । पुस्तक के प्रकाशन में लाल चंद्र यादव जी की प्रेरणा एंव सहयोग निर्णायक रहा इसके लिए मैं उनका धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ । कुल मिलाकर अब कविता संग्रह आपके समक्ष प्रस्तुत है आशा है आप सभी काव्य प्रेमी पाठकों का पूर्ण स्नेह प्राप्त होगा ।

Language

Binding

Paperback

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Priy Tum Chalte Rahna (प्रिय तुम चलते रहना)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *